अटल पेंशन योजना 2020 (Hindi) Atal Pension Yojana

Spread the love

अटल पेंशन योजना (एपीवाई) असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों जैसे नौकरानियों, ड्राइवरों, बागवानों आदि के लिए जून २०१५ में सरकार द्वारा शुरू की गई थी. यह सामाजिक सुरक्षा योजना पिछली सरकार की स्वावलंबन योजना के तहत शुरू की गई थी. APY का उद्देश्य इन श्रमिकों को उनके बुढ़ापे के लिए पैसे बचाने में मदद करना है.

१. इस योजना में पात्रता की शर्तें अग्रलिखित हैं:

१. आवेदक भारतीय नागरिक हो.
२. उसके पास एक वैध बैंक खाता हो.
३. आवेदक की उम्र १८ से ४० साल के बीच हो.

२. APY एक योगदान आधारित पेंशन योजना है और इसमें १००० / रु. २००० / रु. ३००० / रु. ४००० या रु. ५००० की निश्चित मासिक पेंशन देने की व्यवस्था है. आपका मासिक योगदान मासिक पेंशन की निर्धारित राशि पर निर्भर करता है. पेंशन ६० साल की उम्र में शुरू होती है.

इसलिए, भले ही आप ४० साल की उम्र में एपीवाई में शामिल हों, आपको पेंशन का लाभ उठाने के लिए न्यूनतम २० साल तक प्रीमियम का भुगतान करना होगा.

३. APY ग्राहकों को १००० रुपये से ५००० रुपये की पेंशन प्रदान करती है. यह योजना ग्राहक को वर्ष में एक बार पेंशन राशि को कम करने या बढ़ाने की अनुमति देती है. सब्सक्राइबर की मृत्यु के मामले में, सब्सक्राइबर का पति / पत्नी पेंशन की समान राशि का हकदार होगा.

पति या पत्नी दोनों के निधन के बाद, नामिनी पेंशन राशि प्राप्त करने का हकदार होगा. यदि ग्राहक की मृत्यु ६० वर्ष से पहले हो जाती है, तो पति या पत्नी के पास योजना से बाहर निकलने और संचित राशि का दावा करने का विकल्प होगा.

४. अगर आप किसी अन्य सामाजिक सुरक्षा योजना का हिस्सा हैं, तो आप सरकारी योगदान के हकदार नहीं हैं. उदाहरण के लिए, निम्नलिखित अधिनियमों के तहत सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के सदस्य सरकारी सहयोग प्राप्त करने के पात्र नहीं होंगे:

१. कर्मचारी भविष्य निधि अधिनियम, १९५२.
२. कोयला खान भविष्य निधि अधिनियम, १९४८.
३. असम चाय बागान भविष्य निधि प्रावधान, १९५५.
४. सीमन्स प्रोविडेंट फंड एक्ट, १९६६.
५. जम्मू कश्मीर कर्मचारी भविष्य निधि अधिनियम, १०६६.
६. कोई अन्य वैधानिक सामाजिक सुरक्षा योजना.

५. यदि आवेदक के पास बचत खाता नहीं है तो उसे बैंक / डाकघर में अपना बचत खाता खोलना होगा. यदि आप नेट उपयोगकर्ता हैं, तो आप सीधे इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करके अपने बचत खाते के माध्यम से एपीवाई के लिए दाखिला ले सकते हैं और अपने योगदान के लिए ऑटो डेबिट सुविधा चुन सकते हैं.

इस समय, SBI और ICICI जैसे देश के अग्रणी बैंक नेट बैंकिंग के माध्यम से यह सुविधा दे रहे हैं. यह ऑनलाइन विकल्प सभी बैंकों के पास उपलब्ध नहीं है. योजना में शामिल होने के लिए अपने बैंक से संपर्क करें.

६. खाता रखरखाव शुल्क और अन्य संबंधित शुल्कों की कटौती ग्राहक के खाते से की जाएगी. खाता रखरखाव शुल्क आदि की कटौती के कारण यदि ग्राहक के खाते में पैसा शून्य हो जाता है, तो खाता तुरंत बंद कर दिया जाएगा.

अगर ६ महीने तक लगातार डिफॉल्ट होता है, तो खाते को फ्रीज कर दिया जाएगा. विलम्ब की स्थिति में विलम्ब शुल्क देय होगा. १०० रुपये प्रति माह तक योगदान के लिए १ रुपये, २०० से ५०० तक प्रति माह योगदान के लिए २ रुपये तथा १००० से अधिक योगदान के लिए १० रुपये प्रति माह विलम्ब शुल्क देना होगा.

७. ६० वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद आपको अपने संबंधित बैंक या डाकघर से संपर्क करना होगा और पेंशन के लिए अनुरोध जमा करना होगा. ६० साल के बाद ग्राहक की मृत्यु के मामले में मासिक पेंशन की समान राशि पति / पत्नी को देय है.

८. यदि कोई ग्राहक, जिसने APY के तहत सरकार के सह-योगदान का लाभ उठाया है, भविष्य में APY से स्वेच्छा से बाहर होता है, तो उसे केवल APY के लिए उसके द्वारा दिए गए योगदान के साथ, उसके योगदान से अर्जित शुद्ध वास्तविक अर्जित आय वापस कर दी जाएगी.

इसमें से खाता रखरखाव शुल्क पहले ही काट लिया जायेगा. सरकार का सह-योगदान, और सरकार के सह-योगदान पर अर्जित आय ग्राहकों को वापस नहीं की जाएगी.


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *