Ayushman Bharat Yojana

आयुष्मान भारत योजना की पात्रता क्या है (Hindi) Full Details – Ayushman Bharat Yojana ki patrata kya hai

Spread the love

भारत एक विकासशील देश है. यहाँ अभी गरीबों की आबादी काफी ज्यादा है. इन लोगों के लिए स्वास्थ्य की समस्या एक बड़ी समस्या है.

यहाँ जब गरीब परिवार के किसी सदस्य को किसी गंभीर बीमारी का इलाज करना होता है या आपरेशन आदि कराना होता है तो उन्हें काफी तकलीफों का सामना करना पड़ता है.

ऐसे गरीबों को राहत पहुँचाने के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आयुष्मान भारत योजना शुरू करने की घोषणा की.

इस योजना को मोदी केयर के नाम से भी जाना जाता है.

Suggested: Bharat Ki Nayi Shiksha Niti (2020)

 

इस योजना के अंतर्गत प्रतिवर्ष ५ लाख परिवारों को लाभान्वित करने का लक्ष्य रखा गया है.

यह योजना ट्रष्ट माडल या एश्योरेंस माडल पर कार्य करेगी. यह योजना पूरी तरह कैशलेस होगी.

इस योजना से गरीब और मध्यम वर्ग के लोगों को बहुत राहत मिलने वाली है.

Also Read: MGNREGA

क्योंकि पहले जब किसी गरीब परिवार में कोई सदस्य गंभीर बीमारी का शिकार हो जाता था तो उसके इलाज में परिवार की अर्थ व्यवस्था तहस नहस हो जाती थी.

पूरी दुनिया में यह योजना एक बड़ी योजना के रूप में जानी जा रही है. भारत के सामाजिक क्षेत्र में यह योजना एक क्रांतिकारी कदम साबित हो सकती है.

आयुष्मान भारत योजना

भारत में स्वास्थ्य की समस्या एक बड़ी समस्या है. हमारे देश में स्वास्थ्य की समस्या से गरीबी का बड़ा करीब का रिश्ता है.

गरीब परिवार में जब कोई आदमी किसी गंभीर बीमारी का शिकार होता है तो उसके इलाज के लिए परिजनों को अंततः प्रायवेट अस्पतालों की शरण लेनी पड़ती है.

इस इलाज में लोगों की जमीन और अन्य संपत्ति बिक जाती थी. विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के मुताबित भारत में स्वास्थ्य की समस्या से प्रति वर्ष ५ करोड़ लोग निर्धन हो जाते हैं.

ऐसे लोगों को राहत पहुँचाने के लिए यह योजना तैयार की गई है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस योजना का शुभारम्भ पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती २५ सितम्बर २०१८ से किया.

यह योजना दो भागों में कार्य करेगी.

  • १- इसके तहत पूरे देश में डेढ़ लाख प्राथमिक हेल्थ सेंटर खोले जायेंगे. इसमें मामूली रोगों का इलाज मुफ्त में किया जायेगा.
  • २- इस योजना के तहत ५० करोड़ लोगों को मुफ्त स्वास्थ्य बीमा प्रदान किया जायेगा. इसमें १३५० बीमारियों का इलाज किया जायेगा.

प्रति व्यक्ति ५ लाख तक खर्च करने का प्राविधान है.यह खर्च सरकार वहन करेगी.इस योजना का लाभ लेने लिए मरीज का अस्पताल में भर्ती होना अनिवार्य हैं.

इस योजना के तहत अस्पताल में भर्ती होने से तीन दिन पूर्व से लेकर अस्पताल से घर आने के १५ दिन बाद तक का खर्च भी सरकार द्वारा वहन किया जायेगा.

Read: Sukanya Samriddhi Yojana

ऐसे लोग जो एक कमरे के कच्चे घर में रहते हों तथा उनके परिवार में १६ से ५९ वर्ष उम्र का कोई वयस्क सदस्य मौजूद नहीं हैं वे इस योजना के लिए पात्र होंगे.

जिस परिवार की मुखिया महिला हो अथवा जिस परिवार में दिव्यांग सदस्य हो, लेकिन परिवार में कोई सक्षम सदस्य नहीं हो वे भी इस योजना के पात्र माने जाएंगे.

आवास विहीन जनजाति समूह अथवा मुक्त कराए गए बंधुआ मजदूर भी इस योजना में शामिल किये जाएंगे.

इस स्कीम के तहत सबसे पहले सरकार पात्र लोगों का कार्ड बनाएगी.राज्य की एक एजेंसी इस स्कीम की देखरेख करेगी.

लाभार्थी की पहचान के लिए मोबाईल अप्लीकेशंस की भी मदद ली जा सकती है.

चुने गए लाभार्थियों की सूची ग्राम पंचायतों को उपलब्ध कराई जायेगी जिससे सबंधित व्यक्ति सूची में अपना नाम देख सकें.

इसके लिए अत्याधुनिक तकनीक का भी सहारा लिया जायेगा.

बीमा प्रीमियम के निर्धारण के लिए बीमा कंपनियों को राज्यों केअनुसार ठेका दिया जायेगा.

इस इस प्रक्रिया में निजी और सरकारी दोनों प्रकार की बीमा कम्पनियाँ भागीदारी कर सकेंगी. बीमा प्रीमियम का निर्धारण राज्य में पात्र लोगों की संख्या के आधार पर होगा.

इस योजना पर आनेवाले खर्च का ६० प्रतिशत केंद्र तथा ४० प्रतिशत राज्य सरकार द्वारा वहन किया जायेगा.

पूर्वोत्तर व पहाड़ी राज्यों में केंद्र योजना का ९० प्रतिशत खर्चा करेगा लगभग २४ राज्य इस योजना का हिस्सा बन चुके हैं. शेष राज्यों के साथ बातचीत जारी है.

इस योजना के तहत छत्तीसगढ़ में १०००, गुजरात में ११८५, राजस्थान में ५०५, झारखंड में ६४६, मध्यप्रदेश में ७००, महाराष्ट्र में १४५०, पंजाब में ८००, बिहार में ६४३ तथा हरियाणा में २५५ हेल्थ और वेलनेस सेंटर बनाये जायेंगे.

इस लेख के माध्यम से हमने आयुष्मान योजना के बारे में प्रमुख जानकारियां दे दी हैं. यदि आपको इस सन्दर्भ में कोई और जानकारी चाहिए तो आप कमेन्ट बाक्स के माध्यम से उसे पूछ सकते हैं.


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *