भारत में डायरेक्ट सेलिंग का भविष्य – Bharat Me Direct Selling Ka Bhavishy (Hindi)

  • by
Direct Selling ka Bhavishya

किसी भी व्यवसाय में वृद्धि के लिए आगामी इको-सिस्टम को बदलना और अनुकूल बनाना महत्वपूर्ण है. विपणन रणनीति और रोजगार से स्व-रोजगार में बदलाव के लिए आप अपने बेहतर भविष्य के लिए कौन सा उद्योग चुनें, इसके बारे में पता होना चाहिए.

विभिन्न विकसित देशों के पिछले आंकड़ों को देखते हुए यह माना जाता है कि डायरेक्ट सेलिंग या नेटवर्क मार्केटिंग एक अच्छी तरह से विकसित उद्योग है. वॉरेन बफे, डोनाल्ड ट्रम्प जैसे अरबपतियों ने इस उद्योग में लाखों और करोड़ों का निवेश किया है.

भारत में इस व्यवसाय का भविष्य बहुत उज्वल है. आइये जानते हैं कि भारत इस व्यवसाय के लिए क्या क्या संभावनाएं मौजूद हैं.

भारत में डायरेक्ट सेलिंग का भविष्य

१. तथ्य और आंकड़े उच्च विकास दर्शाते हैं:

KPMG और FICCI की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के प्रत्यक्ष बिक्री व्यवसाय में २०२५ तक ६४५ बिलियन की वृद्धि हो सकती है. इस रिपोर्ट के अनुसार डायरेक्ट सेलिंग बिज़नेस ने पिछले ५ वर्षों में १६% से अधिक की वृद्धि दर्ज की है और भविष्य में उच्च विकास होने की उम्मीद है. यह रिपोर्ट २०१५-१६ में प्रकाशित हुई थी, तब उद्योग ८० बिलियन रुपये का था. जो २०१९-२० में केवल ५ वर्षों में २३६ बिलियन का हो गया. इस रिपोर्ट और वर्तमान आंकड़ों के आधार पर डायरेक्ट सेलिंग का भविष्य बहुत आशाजनक लगता है.

२. डायरेक्ट सेलिंग चुनने का सबसे अच्छा समय:

जानकार लोगों के अनुसार कोई भी उद्योग आम तौर पर अपने जीवन चक्र में पांच चरणों से गुजरता है: स्टार्टअप, विकास, फैलाव, परिपक्वता, और गिरावट. किसी व्यवसाय में तब शामिल होना चाहिए जब वह अपने विकास के चरण में है. वर्तमान में भारत में नेटवर्क मार्केटिंग विकास के चरण में है और भविष्य में इसके उच्च विकास की चर्चा उपरोक्त तथ्यों के आधार पर की जाती है. यह डायरेक्ट सेलिंग बिजनेस में निवेश करने का सबसे अच्छा समय है.

३. विकसित देश की अर्थव्यवस्था में योगदानकर्ता:

संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान, यूनाइटेड किंगडम, चीन, जैसे विकसित देशों में नेटवर्क मार्केटिंग कंपनियां ने बहुत आर्थिक योगदान दिया हैं. विशेषज्ञों के अनुसार डायरेक्ट सेलिंग कंपनियों ने २०१९ में ४४ बिलियन डालर का राजस्व उत्पन्न किया है. इन देशों में विशाल कंपनियों ने पहले ही पारंपरिक विपणन को नेटवर्क मार्केटिंग में रूपांतरित कर दिया है. भारत में ऐसे दिन अभी आने बाकी हैं. इसलिए अनुभव और ज्ञान प्राप्त करने के लिए इसे जल्दी शुरू करना बेहतर है. आप बाद में उच्च इनकम का आनंद ले सकते हैं.

४. भारत उच्च कार्यबल उत्पन्न करता है:

भारत हर साल १२ मिलियन से अधिक कार्यबल उत्पन्न करता है. वर्तमान रोजगार और भारत की समग्र आर्थिक स्थितियों को देखते हुए भारत के लिए हर साल १२ मिलियन रोजगार के अवसर पैदा करना कठिन लगता है. लोगों को अन्य अवसरों की तलाश करनी होगी. नेटवर्क मार्केटिंग सबसे अच्छा विकल्प उपलब्ध है क्योंकि इसमें कम जोखिम और बहुत कम निवेश शामिल है. वर्तमान में महिलाएं इस बिक्री उद्योग में बाजी मार रही हैं.  इस व्यवसाय में ६०% से अधिक महिलाएं हैं. पुरुषों की तुलना में इस उद्योग में महिलाएं अधिक हैं. भारत में प्रत्यक्ष बिक्री महिलाओं के भविष्य के लिए सकारात्मक संकेत दिखा रही है.

अन्य कारण

आइए हम कुछ अन्य प्रमुख कारणों पर चर्चा करते हैं जो डायरेक्ट सेलिंग या नेटवर्क मार्केटिंग इंडस्ट्री के विकास के पूरक हैं:

१. कम जोखिम – कम इन्वेस्टमेंट:

डायरेक्ट सेलिंग में बहुत कम निवेश किया जाता है और इसमें शायद ही कोई जोखिम शामिल होता है. आप वास्तव में कोई उत्पाद नहीं बना रहे हैं. आप किसी और के प्रोडक्ट बेच रहे हैं. इसमें आपका निवेश क्या होगा ? यह एक बार की बिक्री किट, उत्पाद का अध्ययन, प्रशिक्षण सत्रों में भाग लेने और अपना समय लगाना हो सकती है.

२. स्व-स्वामित्व:

डायरेक्ट विक्रय आपको स्व-नियोजित बना देगा और आप अपने समय की उपलब्धता के अनुसार अपने स्वयं के नियमों पर काम कर सकते हैं. यह एक मुख्य कारण है कि वर्तमान में महिलाएं इस उद्योग में अग्रणी हैं. गृहिणियां अपने समय की उपलब्धता के अनुसार इस उद्योग में खुद को शामिल करती हैं और साथ ही अपने घरों का प्रबंधन भी करती हैं.

३. साइड इनकम:

इस बिजनेस मॉडल को पूरे दिन की आवश्यकता नहीं होती है. आप डायरेक्ट सेलिंग को पार्ट-टाइम जॉब मान सकते हैं. एक साइड-इनकम हमेशा टीवी देखने से बेहतर होती है. करोड़पतियों का मानना ​​है कि यह साइड-इनकम उनकी सफलता की प्रमुख कुंजी है. उच्च विकास क्षमता को देखते हुए आपको कभी पता नहीं चलता है कि कब आपका यह काम विशाल व्यवसाय में बदल जाता है.

४. निष्क्रिय आय:

नेटवर्क मार्केटिंग में लोगों के जुड़ने का मुख्य कारण यह है कि इसमें एक निष्क्रिय आय का अवसर शामिल है. नेटवर्क मार्केटिंग में कमाई करने के तरीकों में से एक अधिक लोगों को भर्ती करना है. जब भी कोई भर्ती करता है तो आप एक कमीशन कमाते हैं. यह कहा जा सकता है कि हर बार जब आप किसी नए व्यक्ति की भर्ती करते हैं तो आप नए व्यवसाय में निवेश के समान निवेश कर रहे हैं. हर बार जब आपका डाउनलाइन कमाता है तो आपका इनकम बढ़ता है. निष्क्रिय आय (पैसिव इनकम) इस व्यवसाय का प्रमुख आकर्षण है.

इस प्रकार भारत में नेटवर्क मार्केटिंग का भविष्य बहुत उज्वल है. नेटवर्क मार्केटिंग के बारे में विशेष जानकरी के लिए आप मोबाइल नंबर ८१०४७९३६७५ पर संपर्क कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *