direct selling me objections handle kaise kare

डायरेक्ट सेलिंग में आब्जेक्शंस हैंडल कैसे करें Direct Selling Me Objections Kaise Handle Kare

Spread the love

डायरेक्ट सेलिंग को नेटवर्क मार्केटिंग या मल्टी लेवल मार्केटिंग भी कहते हैं.

इस बिजिनेस में जब आप आगे बढ़ने की कोशिश करेंगे और टीम बनाने के लिए लोगों के पास जाएंगे तो आपको तमाम प्रकार के प्रश्नों का सामना करना पड़ेगा.

कभी कोई प्रोस्पेक्ट बहाने बनायेगा तो कभी कोई आदमी मार्केट की तरह तरह की धारणाएं आपके सामने रखेगा.

इस समय आपको निराश नहीं होना है बल्कि पूरे उत्साह और पूरे कान्फीडेंस से लोगों की शंकाओं का समाधान करना है और उनके उनके प्रश्नों के उत्तर देने हैं.

 

आपको यह बात याद रखनी है कि प्रोस्पेक्ट के प्रश्नों को सुनकर आप उत्तेजित न हों, और न ही गुस्सा करें.

बल्कि उन्हें पूरा सम्मान देते हुए, उनके साथ संवेदना दिखाते हुए आपको उन्हें सच्चाई से वाकिफ कराना है.

आप ये बात याद रखिये कि प्रोस्पेक्ट की ज्यादातर शंका सुनी सुनाई अथवा परसेप्शन पर आधारित होती हैं.

यदि आपको नेटवर्क मार्केटिंग की अच्छी जानकारी है तो आप उनके सारे प्रश्नों के उत्तर अच्छी तरह दे सकते हैं.

इसलिए आपको इस धंधे की सारी बारीकियां सीखनी होंगी और सारी सूचनाओं से लैस रहना रहना पड़ेगा.

आब्जेक्शंस हैंडल करने के उपाय

१ – इस बिजिनेस में कई लोग आपके सामने समय न होने की बात कर सकते हैं. ऐसे लोगों से सहमत होते हुए आपको कहना है कि आपकी बात बिल्कुल ठीक है.

शुरू में मुझे भी ऐसे ही लगा था कि नौकरी के बाद मैं इस बिजिनेस के लिए कैसे समय निकालूँगा.

लेकिन जब मैंने इस धंधे की सारी बातों को अच्छी तरह से समझा तो मेरी यह समस्या धीरे धीरे खत्म हो गयी.

क्योंकि मुझे यह बात समझ में आ गयी कि यहाँ समय अपनी सुविधा के हिसाब से निकालना है.

किसी भी चीज का कोई बंधन नहीं है.मैंने देखा कि टीम के ज्यादातर लोग भी मेरी ही तरह कहीं न कहीं नौकरी या धंधा करते हुए यह बिजिनेस करते थे.

आप भी जब कंपनी की कार्य प्रणाली अच्छी तरह से समझ जायेंगे तो आपकी यह समस्या खत्म हो जायेगी.

२ – दोस्तों कई लोग आपको बोलेंगे कि उनके पास बिजिनेस में डालने के लिए पैसा नहीं है.ऐसे लोगों से आपको बोलना है कि आप की बात बिल्कुल ठीक है और आपकी साफगोई की मैं सराहना करता हूँ.

दरअसल यह बिजिनेस उन्हीं लोगों के लिए है जो लोग आर्थिक रूप से संघर्ष कर रहे हैं.

ऐसे लोगों को संघर्ष से निकालकर आर्थिक आजादी दिलाना ही कंपनी का उद्देश्य है. आज आप अकेले परेशान नहीं हैं.

मार्केट में अधिकांश लोगों का यही हाल है. दरअसल हमारे खर्चे बढ़ रहे हैं लेकिन वेतन तो उस तरह बढ़ता नहीं है लिहाजा हम सब लोग हमेशा आर्थिक रूप से तंग रहते हैं.

यदि आपको यह व्यवसाय पसंद है तो एक बार कुछ पैसे का इंतजाम करें जैसे कि आप अन्य जरूरी कार्यों अथवा आकस्मिक खर्चों के लिए करते हैं.

३ – कई लोग आपको बोलेंगे कि इस बिजिनेस को ज्यादा लोग क्यों नहीं करते? ऐसे लोगों से आपको कहना है कि यह बिजिनेस भारत में अभी नया है और इसलिए ज्यादा लोग अभी इसे नहीं जानते.

इसका विज्ञापन भी नहीं होता है इसलिए ज्यादातर लोगों को इसकी खूबियों के बारे में पता नहीं है.

जैसे जैसे लोग इस बिजिनेस की ताकत को जानेंगे, इसके चमत्कार से परिचित होंगे,इसमें लोगों की संख्या बढती जाएगी.

इंटरनेट की पहुँच बढ़ने के साथ ही इस बिजिनेस में लोगों की सख्या बढ़ रही है. इस बिजिनेस में प्रवेश का यही सही समय है.

४ – कई लोग बोलेंगे कि मुझे चैन सिस्टम नहीं जमता है.ऐसे लोगों से आपको कहना है कि यह चैन सिस्टम नहीं, नेटवर्क का बिजिनेस है.

अब समय बदल रहा है. आज क्लीनिक,सैलून, होटल जैसे तमाम सेक्टर में लोग फ्रेंचाईजी माडल पर काम करके पैसे कमा रहे हैं.

हमें भी बदलते समय के साथ बदलना चाहिये और इस माडल पर काम करके पैसे कमाने चाहिए.

५ – मेरे पास समझाने की क्षमता नहीं है. इस पर आपको कहना है कि हमें समझाना नहीं है. बस लोगों को इस धंधे की खूबी, उसकी ताकत सही ढंग से बता देना है.

अब सामने वाले को धंधा जमेगा तो आएगा, नहीं जमेगा तो नहीं आएगा.

६ – मैं अपने इनकम से संतुष्ट हूँ.ऐसा कहने वाले लोगों की आर्थिक स्थिति थोड़ा ठीक रहती है. लेकिन वे ऐसा इसलिए बोलते हैं क्योंकि उन्हें इस धंधे की ताकत नहीं पता होती.

जब आप उन्हें अच्छे ढंग से नेटवर्क मार्केटिंग की ताकत बताते हैं तो वे बिजिनेस को ज्वाइन कर लेते हैं.

७ – कई ओग आपसे पूंछेंगे कि आप इस बिजिनेस में कब से हैं. ऐसा पूछने लोग इस बिजिनेस में अपनी संभावनाओं को तलाशने की कोशिश कर रहे होते हैं. आपको ये बात समझनी होगी.

ऐसे लोगों को अपनी या अपनी टीम के किसी लीडर की इनकम या उपलब्धियों को भी बताना चाहिये.

कम्पनी की डायरी का भी इस्तेमाल आप ऐसे मौके पर कर सकते हैं.

८ – कई लोग प्लान देखने के बाद अपने करीबियों से राय लेने की बात करते हैं.

ऐसे लोगों से आपको पूंछना है कि ये प्लान आपने देखा है या आपके परिचित ने.

इसकी ताकत आपने समझा या आपके परिचित ने.जिस आदमी को प्लान की जानकारी नहीं है वो क्या राय देगा.

इसलिए उनसे बोलिए कि जिनसे राय लेनी है उनसे हमारी मीटिंग कराइए. क्योंकि बिना कंपनी के बारे में जाने वो इस बारे में क्या बताएगा.

यदि उन्हें कुछ और बातें जाननी हैं तो वे कम्पनी के ही किसी पदाधिकारी या आपके किसी सीनियर से बात कर सकते हैं.

९ – आपकी कंपनी का प्रोडक्ट महंगा है.

इस बात पर आपको कहना है कि मार्केट में अनेक रेट के सामान होते हैं.

कई लोग कम दाम वाला सामान लेते हैं जबकि कई व्यक्ति ज्यादा दाम वाला सामान पसंद करते हैं.

कोई आदमी सौ रुपये फीस वाले डाक्टर के पास जाता है तो कई लोग दो हजार फीस वाले डाक्टर के पास जाना पसंद करते हैं.

दरअसल हमारी कम्पनी का सामान महंगा नहीं बल्कि उच्च कोटि का है. बल्कि हमारा सामान कई कम्पनियों से सस्ता है जबकि उनकी अपेक्षा उसकी गुणवत्ता काफी अच्छी है.

१० – मेरे पास ज्यादा परिचित नहीं हैं.

ऐसा बोलने वाले लोगों से आपको बोलना है कि पहले सभी को ऐसा ही लगता है.

मुझे भी ऐसे लगता था कि मेरे तो ज्यादा परिचित हैं नहीं. लेकिन बाद में जब सीनियरों ने समझाया और ट्रेनिंग ली तो दो सौ लोग मेरे परिचित निकल आये.

यहाँ आपको ऐसी ट्रेनिंग मिलेगी कि आप अजनबियों को भी आसानी से बिजिनेस में लाने में सक्षम हो जायेंगे.

दोस्तों मैंने कुछ प्रमुख प्रश्नों और उत्तरों का जिक्र यहाँ कर दिया है. अधिक जानकारी के लिए आप मोबाइल नंबर ८१०४७९३६७५ पर संपर्क कर सकते हैं.


Spread the love

Leave a Comment