direct selling me objections handle kaise kare

डायरेक्ट सेलिंग में ट्रेनिंग का क्या महत्व है? Importance of Training in Direct Selling

Spread the love

डायरेक्ट सेलिंग को नेटवर्क मार्केटिंग या एमएलएम भी कहते हैं. अगर आप डायरेक्ट सेलिंग बिजिनेस में सफलता चाहते हैं तो सबसे पहले आपको यह बिजिनेस सीखना होगा,बिजिनेस की सारी बारीकियां जाननी होंगी.

 डायरेक्ट सेलिंग में ट्रेनिंग का महत्व

आप विभिन्न प्रकार की ट्रेनिंग,सेमिनार और वीडियो आदि के माध्यम से बिज़नेस की बेसिक जानकारी, बिजनेस कैसे करें आदि का ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं. इस बिजिनेस का नियम है जो सीखता है वह जीतता है.

याद रखें डायरेक्ट सेलिंग में आप जितना चाहें उतना इनकम हासिल कर सकते हैं, बशर्ते आप सिस्टम का पालन करें और धंधे के मास्टर बनें.

यहाँ कोई किसी का बास नहीं होता है. इसलिए बहुत से लोग बिज़नेस ज्वाइन करने के बाद अपनी मनमर्जी से काम करने लगते हैं. लीडर यानी बिज़नेस में लाने वाले अपलाइन की सुनते ही नहीं. ट्रेनिंग और एजुकेशन प्रोग्राम अटेंड ही नहीं करतेे हैं. फिर इनकम नहीं आता है तो लीडर को दोष देते हैं.

यहाँ ज्यादातर लोग अपनी अज्ञानता के कारण पिछड़ जाते हैं या नुकसान उठाते हैं तो भी लीडर को ही दोष देते हैं या कंपनी के प्लान को दोष देते हैं. किसी दूसरी कंपनी के प्लान या व्यवस्था से तुलना करतेे हैं.

हर कंपनी का अपना नियम और बिज़नेस प्लान होता है. उसकी विस्तृत और बारीक जानकारी लें.

चूँकि डायरेक्ट सेलिंग, नेटवर्क मार्केटिंग में लोग पढ़ाई या अध्ययन करके,परीक्षा देकर, इंटरव्यू देकर नहीं आते हैं.

उनके पास अपना पुराना ज्ञान होता है, वह भी किसी दूसरे बिज़नेस का होता है या नहीं भी होता है. अधिकतर लोग तो कभी बिज़नेस किये ही नहीं होते, सिर्फ इधर-उधर की सुने होते हैं.

जब किसी नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी को ज्वाइन करतेे हैं तो उसकी ट्रेनिंग अटेंड करने से ही मना कर देते हैं. ऐसी स्थिति में सफलता नहीं मिल सकती.

ऐसे लोग यदि बहुत मनाने फुसलाने या दबाव में एक- दो वीडियो इधर-उधर से देख लेते हैं तो उसे ही पर्याप्त समझते हैं.

ऐसे लोगों से सिर्फ यही कहना है कि आप कंपनी की ट्रेनिंग ठीक से अटेंड करें. बिजनेस प्लान समझने में समय लगता है.

डायरेक्ट सेलिंग बिज़नेस आज दुनिया का सबसे बड़ा इनकम देनेवाला बिज़नेस माडल करार दिया गया है, उसको चंद घंटों, दिनों या महीनों में नहीं समझा जा सकता है.

यहाँ पर आपको कारोबार करते करते शिक्षा और ट्रेनिंग दी जाती है.

आप नौकरी के लिए १५-२० साल पढ़ाई करते हैं, ट्रेनिंग लेते हैं, फिर रेज्युमे लेकर दौड़ते हैं. नौकरी मिलती है तो वहाँ फिर ट्रेनिंग होती है.

ऊपर से बास,मैनेजर,डायरेक्टर,सीईओ और सीओओ आदि विभिन्न रूप रंग धारण करके हुक्म चलाते हैं.

अपनी मनमर्जी से सैलरी तय करतेे हैं. जब चाहें नौकरी से निकाल देते हैं. वेतन कम कर देते हैं.अपने टाइम से देते हैं. ऊपर से जी हुजूरी भी करतेे हैं.

कहने का मतलब नौकरी में हम दूसरे की हर शर्त पूरी करतेे हैं फिर भी इनकम हमारी मर्जी का नहीं होता है.

लेकिन डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री में सब हमारी मर्जी पर होता है. यहाँ तक कि इनकम भी. फिर भी हम काम करने के लिए उल्टी-सीधी शर्तें लगाने लगते हैं.

यदि हम डायरेक्ट सेलिंग से मिलने वाले फायदे देखकर काम करें तो यहाँ के नियम या व्यवस्था का पालन करने में दिक्कत नहीं होगी.

अतः जो लोग नेटवर्क मार्केटिंग में करिअर बनाना चाहते हैं, उनसे यही कहना है कि जो रीडर होता है वही लीडर होता हो.

इस व्यवसाय में ट्रेनिंग इंजन की तरह होती है. आप अपनी कम्पनी के सिस्टम को अच्छी तरह से फालो करें,अधिक से अधिक ट्रेनिंग और सेमिनार अटेंड करें.

यदि आपने ऐसा किया तो सफलता आपके पीछे पीछे भागेगी. अधिक जानकारी के लिए मोबाइल नंबर ८१०४७९३६७५ पर संपर्क भी कर सकते हैं.


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *