मुंबई।  सुप्रसिद्ध समाजसेवी और उद्योजक श्री सुकुमार शाह ने कहा है कि की मंदी से देश के उद्योजकों और व्यापारियों की कमर टूट रही है . केंद्र व राज्य सरकारों को चाहिए वे विशेष सहायता देकर उन्हें मंदी से उबारें  .
एक विशेष बातचीत में श्री शाह ने कहाकि  उद्योजक और व्यापारी देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ होते हैं ।  उद्योजक और व्यापारी राजकोष में केवल टैक्स ही जमा नहीं करते बल्कि बड़े पैमाने पर रोजगार का भी सृजन करते हैं। आज देश में भयंकर मंदी है,जिससे उद्योजकों और व्यापारियों की कमर टूट गयी है। आज उद्योजक और व्यापारी नौकरों का वेतन भी दे पाने की स्थिति में नहीं हैं। जबकि यही उद्योजक और व्यापारी देश में 90% लोगों को रोजगार देने का काम करते है।
उन्होंने कहा कि आज सारा व्यापारी वर्ग परेशान है,वह चाहे होलसेलर हो या रिटेलर,कारखाने दार हों या मिल मालिक। सरकार को उद्योग-व्यापार को बढ़ावा देने के लिए  प्रशासन को ऊपर से नीचे हर स्तर पर गतिशील और पारदर्शी बनाना होगा। उद्योजकों की मदद के लिए विशेष आर्थिक पॅकेज दिया जाना चाहिए .  लोन आदि के नियमों में जरुरी सुधार किये जाने चाहिए . सर्फासी एक्ट में सुधार  करके मंदी से त्रस्त उद्योजकों को  राहत देनी चाहिए ताकि उद्योजकों को बैकों का पैसा वापस करने के लिए कुछ अधिक समय मिल जाये और वे पैसा वापस कर  देश के विकास में अपना योगदन कर सकें .
उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्रियों से अपील की है कि वे  देश को मंदी से उबारने का काम करें। उन्होंने कहा कि सरकार ने यदि इस दिशा में ठोस कदम नहीं उठाया तो निकट भविष्य में देश की स्थिति भयावह हो जायेगी और यहाँ  मंदी तथा बेरोजगारी और बढ़ सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here