IAS Officer Kaise Bane

आईएएस (IAS) अधिकारी कैसे बनें IAS Adhikari Banane Ke Liye Kya Kare?

Spread the love

 

भारत में सिविल सेवा परीक्षा अंग्रेजी शासन की  देन है. अंग्रेजों के ज़माने में इस सर्विस को आईसीएस के नाम से जाना जाता था.

उस समय से अब तक इसमें काफी बदलाव आ चुका है. भारत में आईइएस अधिकारी बनने के लिए कड़ी स्पर्धा होती है.

कड़ी मेहनत, पक्के इरादे और जुनून वाले उम्मीदवार ही इस परीक्षा में सफलता पाते है.

कैसे बनते हैं आईएएस ऑफीसर

भारतीय नागरिक सेवा के तहत आईएएस का चुनाव किया जाता है. यह भारत की सबसे कड़ी परीक्षा मानी जाती है.

आईएएस आफीसर भारतीय नौकरशाही में सबसे ऊपर होता है. उनके ऊपर  केवल मंत्री होते हैं.

भारत में आल इण्डिया सर्विस के तहत आईएएस,आईपीएस और आईएफएस जैसे ऑफिसर चुने जाते हैं. इस परीक्षा में सबसे ऊपरी रैंक के उम्मीदवार ही आईएएस के लिए चुने जाते हैं.

इन आईएएस ऑफीसरों पर देश चलाने का जिम्मा होता है.

सिविल सर्विस परीक्षा देने के लिए आवेदक का ग्रेजुएट होना जरुरी है.

आईएएस बनने के लिए कम से कम २१ वर्ष उम्र होनी चाहिये.

यदि कोई इस परीक्षा में शामिल होना चाहता है तो उसे कम उम्र से ही इस परीक्षा की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए.

आवेदक ३२ वर्ष की उम्र तक ६ बार इस परीक्षा में बैठ सकता है.

यदि किसी को आईएएस बनने का शौक है तो उसे १०वीं के बाद से  ही इस परीक्षा को ध्यान में रखकर पढाई शुरु कर देनी चाहिए.

अखबार और पत्रिकाओं  को  नियमित रूप से पढ़ना चाहिये.

इससे आपका करंट अफेयर्स का ज्ञान ठीक रहेगा.

दसवीं के बाद आपको वही विषय चुनना चाहिये जिसमें आपकी रूचि हो और जिसे आप आईएएस में  विषय के रूप में ले सकें.

इससे आपको आईएएस का विषय चुनने में आसानी होगी. आपको दसवीं के बाद से ही गंभीरता से पढाई शुरू कर  देनी चाहिये.

आईएएस  बनने के लिए ३ परीक्षा पास करनी पड़ती है, प्रिलिमिनरी परीक्षा,मुख्य परीक्षा और इंटरव्यू.

प्रीलिम्स में २००-२०० अंकों के दो पेपर होते हैं.दोनों ही पेपर में वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूँछे जाते हैं. मुख्य परीक्षा में ९ पेपर होते हैं.

इनमें  से २ क्वालीफाइंग तथा ७ मेरिट के लिए होते हैं. मुख्य परीक्षा पास होनेवाले उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है.

इंटरव्यू लगभग ४५ मिनट का होता है. इंटरव्यू के बाद मेरिट लिस्ट तैयार की जाती है

एक आईएस ऑफीसर मुख्य रूप से सरकार की नीतियों को लागू करता है.

वह जिले में मजिस्ट्रेट से लेकर केन्द्र में कैबिनेट सचिव तक की पोस्ट हासिल करता है.

इसके अलावा एक आईएस आफिसर को सरकार के विभिन्न विभागों, कम्पनियों, बोर्ड आदि का प्रमुख भी बनाया जाता है.

अधिक जानकारी के लिए UPSC की वेबसाईट www.upsc.gov.in को भी देखा जा सकता है.


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *