जॉब के लिए रिज्यूमे कैसे बनायें? Job Ke Liye Resume Kaise Banaye

Spread the love

 

अपना पहला रेज़्यूमे बनाना आपके करियर को शुरू करने  का एक महत्वपूर्ण कदम है. इसके लिए आपको अपने सभी सर्वोत्तम गुणों को कागज पर रखना होगा.

आपको अगले व्यक्ति की तुलना में अधिक आकर्षक दिखना चाहिए और कागज की एक शीट पर अपने आप को पूरी तरह से बेचना चाहिए. आपके पास नियोक्ता का ध्यान आकर्षित करने के लिए केवल कुछ सेकंड हैं. नियोक्ता का ध्यान आकर्षित करने में आपकी मदद करने के लिए यहां सात सुझाव दिए गए हैं.

१. मूल बातों से शुरू करें

आपके resume में आपका नाम, पता, फ़ोन नंबर और ई-मेल पता शामिल होना चाहिए. आप रिज्यूमे में लिखे पते से सावधान रहें. इसलिए एक स्थायी पता जैसे कि आपके माता-पिता का पता शामिल करें.  अपने ई-मेल पते का भी ध्यान रखें. अपने उपयोगकर्ता आईडी को अपने नाम से संबंधित बनाएं, न कि किसी भी उपनाम से. यदि आपका व्यक्तिगत ई-मेल पता उचित नहीं है तो नौकरी खोजने के लिए एक नया खाता सेट करें .

२. उद्देश्य और कौशल का सारांश शामिल करें

ये अनुभाग आपकी व्यक्तिगत जानकारी के बाद आते हैं . पहली बार नौकरी तलाशने वालों के लिए यह संक्षिप्त होना चाहिए. आप अपने कौशल में उन अनुभवों और योग्यताओं को उजागर करें, जो नियोक्ता चाहता है. 

३. सही रिज्यूमे स्टाइल चुनें

रेज्यूमे तीन प्रकार के होते हैं: कालानुक्रमिक(chronological), फंक्शनल और कम्बीनेशन. कालानुक्रमिक कार्य अनुभव पर ध्यान केंद्रित करते हैं. फ़ंक्शनल रिज्यूमे कौशल(skills) पर अधिक ध्यान केंद्रित करते हैं. पहली बार नौकरी करने वालों के लिए संयोजन शैली अच्छी तरह से काम करती है. इसमें आप अपने कौशल पर अधिक ध्यान आकर्षित कर सकते हैं, क्योंकि आपका कार्य अनुभव संभवतः सीमित है.

४. अपने अनुभव और कौशल पर मंथन करें

अंशकालिक पदों में सीखे गए कई कौशल कॉर्पोरेट जगत के लिए काफी प्रासंगिक हैं. आप अपने  द्वारा प्राप्त किए गए कौशल को कम न समझें.जब आप प्रासंगिक कार्य अनुभव के बारे में सोचते हैं तो आप यह जान लीजिये कि आपके पास आपके द्वारा महसूस किए जाने से अधिक अनुभव है.

उदाहरण के लिए, यदि आपने एक रिटेल ऑपरेशन में काम किया है, तो आपके कौशल और योग्यता में ग्राहक सेवा कौशल, निर्भरता, जवाबदेही, एक टीम के हिस्से के रूप में काम करने की क्षमता और पैसे के प्रबंधन का अनुभव शामिल हैं. क्या आप एक पूर्णकालिक ग्रीष्मकालीन दाई थीं? इसका मतलब है कि आपने शेड्यूल को समन्वित किया, वित्त को संभाला और बेहद जिम्मेदार थीं.

५. आपका अकादमिक और स्वयंसेवी अनुभव प्रासंगिक है

ऐसा मत सोचो कि आपकी स्कूली शिक्षा का मतलब नियोक्ता से कुछ नहीं है. आपका कंप्यूटर कौशल विशेष रूप से आकर्षक होगा और इसे हाइलाइट किया जाना चाहिए. आप अपने द्वारा किए गए वर्ग कार्य  द्वारा अपनी योग्यता और शक्तियों का प्रदर्शन भी कर सकते हैं. उदाहरण के लिए यदि आप कॉलेज में पत्रकारिता के प्रमुख थे तो नियोक्ता को आपके द्वारा लिखे गए प्रमुख लेखों और उन परियोजनाओं को पूरा करने के लिए आपके द्वारा किये गये कार्यों के बारे में बताएं। अपने स्वयंसेवक और असाधारण अनुभव पर भी विचार करें. आपने कालेज में जितने भी काम किये थे, सबकी सूची देना लाभकारी होगा. 

६. रिज्यूमे लिखने के विशेष नियमों को जानें

रिज्यूमे में  “I” शब्द को छोड़ दें और सृजित, विकसित, संगठित, प्रेरित, और निर्मित जैसे शब्द का इस्तेमाल करें. ये शब्द  “किए गए” की तुलना में बहुत अधिक प्रभावी हैं. और अंत में बिना उचित प्रूफरीडिंग के कभी भी रिज्यूमे न भेजें.

 ७. कभी भी झूठ नहीं बोलना

रिज्यूमे में आप  किसी प्रकार की कोई गलत जानकरी न दें . यह आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकता है. पढाई और अनुभव के बारे में विशेष सतर्कता से लिखें. यदि आप झूठ बोलते हैं, तो आप पकड़े जाएंगे और यह आपके हानिकारी साबित होगा. 


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *