Network Marketing Kya hai? MLM Kya hai?

नेटवर्क मार्केटिंग (mlm) क्या है?-What is Network Marketing (MLM) Hindi

Spread the love

इसे मल्टी लेवल मार्केटिंग (MLM) या डायरेक्ट सेलिंग  भी कहते हैं. नेटवर्क मार्केटिंग दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाला बिजनेस है. नेटवर्क मार्केटिंग किसी भी सेवा या उत्पाद को कंपनी से सीधा उपभोक्ता तक पहुँचाने की युक्ति है. जिसमें उपभोक्ता कंपनी से सीधा जुड़ता है और उत्पाद खरीदता है जिससे कम्पनी द्वारा उपभोक्ता को कुछ फायदे मिलते हैं. इसमें प्रोडक्ट पर डिस्काउंट,कैसबैक,बेहतर उत्पाद आदि हो सकते हैं. साधारण तौर पर किसी भी उत्पाद अथवा सर्विस को  बेचने के दो तरीके होते हैं.

  1. ट्रेडिशनल मार्केटिंग
  2. नेटवर्क मार्केटिंग (डायरेक्ट सेलिंग)

Also Read: How to Get Success in Network Marketing

ट्रेडिशनल मार्केटिंग: इस पद्धति में कंपनी प्रोडक्ट को कस्टमर तक पहुँचाने के लिए ढेर सारे बिचौलिओं की मदद लेती है जिसमें डिस्ट्रीब्यूटर,होलसेलर,एजेंट,रिटेलर आदि शामिल हैं. इस प्रकार की मार्केटिंग में कंपनी अपने टर्नओवर का एक  बड़ा हिस्सा एडवरटाईजिंग में भी लगाती  है. फिर कस्टमर उस प्रोडक्ट को मार्केट से खरीदता है.

नेटवर्क मार्केटिंग: में कम्पनी अपने प्रोडक्ट और सर्विसेज को सीधा कस्टमर तक पहुंचाती है. इस सिस्टम में कस्टमर ही डिस्ट्रीब्यूटर होते हैं जो प्रोडक्ट और सर्विसेज को प्रमोट करते हैं. जिसमें कंपनी अपने बिनिफिट का एक बड़ा हिस्सा कस्टमर में डिस्ट्रीब्यूट कर देती है और कस्टमर को एक अतिरिक्त आमदनी कमाने का मौका मिलता है.

नेटवर्क मार्केटिंग का इतिहास History of Network Marketing

नेटवर्क मार्केटिंग की शुरुआत १९३० में अमेरिका के महान रसायन शास्त्री कार्ल रेनबार्ग ने की. पहली बार उन्होंने खाने में आहार पूरक के उपयोग से स्वास्थ्य में होनेवाले फायदे को बताया और आहार पूरक पर आधारित कैलिफोर्निया बिटामिन नाम की पहली नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी शुरू की.

Read: Join Mi Lifestyle

यहीं से नेटवर्क मार्केटिंग का आरम्भ हुआ.उस कैलीफोर्निया बिटामिन कंपनी का नाम १९३९ में बदलकर न्युट्रालाइट कर दिया गया. आज नेटवर्क मार्केटिंग दुनिया में सबसे तेजी से बढने वाला व्यवसाय बन चुका है.

भारत में नेटवर्क मार्केटिंग Network Marketing in India

भारत में नेटवर्क मार्केटिंग की शुरुवात १९९५ में हुई. नेटवर्क मार्केटिंग व्यवसाय इंडिया में बहुत तेजी से बढ़ रहा है. भारत ने तेजी से बढ़ रही इस इंडस्ट्री के लिए १२ सितम्बर २०१६ को गाइडलाईन जारी कर दी जिससे भारत में नेटवर्क मार्केटिंग तेजी से बढ़ रही है. अभी इसमें और भी तेजी आने की उम्मीद है. भारत सरकार की संस्था FICCIऔर KPMG की रिपोर्ट के अनुसार २०२५ में डायरेक्ट सेलिंग भारत में ६२५ बिलियन (६२५०० करोड़)  की इंडस्ट्री बन जायेगी.

नेटवर्क मार्केटिंग के फायदे Benefits of Network Marketing

समय प्रबंधन :

दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण और कीमती चीज समय है. नेटवर्क मार्केटिंग में पूरे दिन को प्लान करना सिखाया जाता है. यहाँ हम  समय  का सदुयोग करना सीखते  है. जो टाइम बेकार की चीजों पर नष्ट किया जाता है उसी टाइम को सदुपयोग करना सीखते हैं.

यहाँ हमें अपनी आदतें बदलनी पड़ती हैं जिससे हमारे जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आते हैं. क्योंकि एक महान वैज्ञानिक एपीजे अब्दुल कलाम का कहना है कि हम अपने भविष्य को नहीं बदल सकते लेकिन अपनी आदतों को बदल सकते हैं और बदली आदत हमारे भविष्य को बदल सकती हैं अर्थात हमारी आदतें ही  हमारा भविष्य बनाती हैं.

सकारात्मक सोंच:

नेटवर्क मार्केटिंग में आने पर  नजरिया परिवर्तित हो जाता है. हम हर चीज को अलग नजरिये से देखना शुरू कर देते हैं. ये सब अच्छी संगत के कारण होता है.

अतिरिक्त आमदनी:

दुनिया में शायद हर व्यक्ति को एक्स्ट्रा इनकम पसंद होता है. और नेटवर्क मार्केटिंग अतिरिक्त  इनकम कमाने का सबसे अच्छा माध्यम होता है.यहाँ पर व्यक्ति मनचाही आमदनी ले सकता है.

व्यक्तित्व विकास:

नेटवर्क मार्केटिंग में वह सब सीखने को मिलता है जो बाहर यह या किसी कालेज में नहीं सिखाया जाता है. यहाँ  पर  हम टीम बनाते हैं जिससे हमारे अन्दर लीडरशिप स्किल आती है.हम यहाँ पर टाइम मल्टीप्लाई करना सीखते हैं. यहाँ पर जितने इफेक्टिव तरीके से पब्लिक स्पीकिंग सीखी जाती है वह पब्लिक स्पीकिंग आप बाहर लाखों रुपये खर्च करके भी नहीं सीख सकते.

बातचीत की कला:

नेटवर्क मार्केटिंग में आप अपने विचार को प्रभावपूर्ण तरीके किसी व्यक्ति के समक्ष रखना और उसे बातचीत  के जरिये प्रभावित करना सीखते हैं. यह कला जीवन भर आदमी के काम आती है.

लोक व्यवहार:

नेटवर्क मार्केटिंग में एक ऐसी  स्किल भी सीखने को मिलती है जो व्यक्ति के जीवन भर काम आती है. क्योंकि नेटवर्क मार्केटिंग लोगों का बिजिनेस है. यहाँ आप लोगों के साथ काम करते हैं जिसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप एक व्यावहारिक व्यक्ति बन जाते हैं. लोग आपसे मिलना चाहते हैं और आप उनके प्रिय बन जाते हैं.

निष्क्रिय आय:

सामान्यतः आय दो प्रकार की होती है सक्रिय आय और निष्क्रिय आय. सक्रिय आय में व्यक्ति जब तक तक मेहनत करता है तभी तक पैसे आते हैं. जब आदमी काम नहीं करता तो आय नहीं होती. लेकिन निष्क्रिय आय में व्यक्ति काम करे या न करे,पैसे आते रहते हैं. नेटवर्क मार्केटिंग में एक बार टीम बन जाने पर पैसिव इनकम आना शुरू हो जाता है. चाहे आप काम करें या न करें, आपकी टीम काम करती है आपके लिये. वास्तव में टीम अपने लिये काम करती है लेकिन इंडायरेक्टली आपके लिए भी काम होता है.

दूसरों की मदद:

जब कोई नया व्यक्ति इस बिजिनेस में आता है तो  पूरी टीम आगे बढ़ने में उसकी मदद करने लगती है. जबकि  बाहरी दुनिया में लोग एक दूसरे की टांग खीचने में लगे हैं.नेटवर्क मार्केटिंग में लोग एक दूसरे की सफलता के लिए काम करते हैं.

आर्थिक आजादी:

इस बिजिनेस के जरिये कोई भी व्यक्ति ४ से ५ साल में  मेहनत और लगन से काम करके आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त कर सकता है. यहाँ आप मनचाहा पैसा बना सकते हैं.यह आप पर डिपेंड करता है कि आप कितना कमाना चाहते हैं.

समय की आजादी:

नेटवक मार्केटिंग एक ऐसा व्यापार है जो हमें समय की आजादी देता है. इस बिजिनेस में यदि आप कहीं घूमने जाते हैं या कुछ समय काम नहीं भी करते तो  भी आपकी कमाई होती रहती है.

मान सम्मान:

नेटवर्क मार्केटिंग  में मान सम्मान तो इतना मिलता है जितना किसी बड़े नेता या अभिनेता को भी नहीं मिलता. यहाँ सफल होने पर आप जहाँ जाते हैं आपका स्वागत किया जाता है. ढेर सारे लोग लाईन में लगे होते हैं आपके साथ एक फोटो क्लिक करने के लिए,आटोग्राफ लेने  के लिए. यहाँ लोग आपको देखकर प्रेरित होते होते हैं और आपकी तरह ही बनना चाहते हैं.

अच्छे लोगों से दोस्ती:

नेटवर्क मार्केटिंग लोगों का बिजिनेस है इसलिए यहाँ पर आप हर रोज नए लोगों से मिलते हैं और ऐसे लोगों से आपकी दोस्ती  होती है जिसे आप नहीं जानते थे. जिनका एक सक्सेज माइंडसेट है. वह जिन्दगी में आगे बढ़ना चाहते हैं. यहाँ पर आपको एक ऐसा कल्चर मिलता है जहाँ सभी लोग आगे बढ़ने की सोचते हैं. लोग एक दूसरे को उनके गोल अचीव करने के लिए प्रेरित करते हैं.

प्रस्तुति की कला:

नेटवर्क मार्केटिंग में लोग चीजों को अच्छी तरह से प्रजेंट करना सीखते हैं,जिसमें बोर्ड प्रजेंटेशन,लैपटाप प्रजेंटेशन,पेपर प्रजेंटेशन आदि शामिल हैं. यहाँ आप एक प्रोफेसनल की तरह चीजों को प्रजेंट करना सीख जाते हैं.

कोई जोखिम नहीं:

इस बिजिनेस में कोई रिस्क नहीं होता है. क्योंकि यह लाखों करोड़ों में शुरू नहीं होता. बल्कि यह बहुत कम पैसे में शुरू होता है. इसलिए इस बिजिनेस में किसी प्रकार की हानि का डर नहीं रहता.

समय सीमा नहीं:

किसी भी व्यापार की एक समय सीमा होती है कि वह इतने से इतने समय में चल सकता है. लेकिन नेटवर्क मार्केटिंग को किसी भी समय किया जा सकत है चाहे वह रात के दो ही क्यों न बजे हों.

बिजिनेस के लिए बड़ा स्कोप:

इस  बिजिनेस को खुले बाजार में कहीं भी  किया जा सकता है.यदि आप कहीं घूमने गए हैं तो वहां भी यह बिजिनेस कर सकते हैं. लेकिन ऐसा अन्य किसी व्यापार में नहीं होता है कि आप अपनी दुकान कहीं  भी ले जा सकते हैं. नेटवर्क मार्केटिंग में आप चलती फिरती दुकान होते हैं. जहाँ आप हैं वहां आपका बिजिनेस है.

उम्र की आजादी:

इस बिजिनेस में आपकी उम्र चाहे जो भी हो आप इस बिजिनेस को शुरू कर सकते हैं. चाहे आप ५ साल के हों या ७५ साल के.

निष्कर्ष:

हमें उम्मीद है कि नेटवर्क मार्केटिंग क्या है और इसके क्या क्या फायदे हैं इस बात को आप अच्छी तरह से समझ गए होंगे.

आप इस जानकारी को अपने दोस्तों व करीबियों में भी शेयर कर सकते हैं और उनका मार्गदर्शन कर कर सकते हैं. आज के बेरोजगारी के युग में आप लोगों को बिजिनेस का यह तरीका बताकर उन्हें एक अच्छे रास्ते  पर ला  सकते हैं.

हो सकता है कि आपके द्वारा दी गयी जानकारी किसी को अच्छी लग जाये और वह  व्यक्ति यह  बिजिनेस शुरु करके अपनी जिंदगी संवार ले.ऐसा होने वह व्यक्ति जीवन भर आपको दुवायें देगा. इस बिजिनेस के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप मोबाईल नम्बर ८१०४७९३६७५ पर संपर्क भी कर सकते हैं.


Spread the love

Leave a Comment